खोजें पाया 1522 परिणाम

द्वारा eclectron
04/07/20, 22:41
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

et si la quantité n'est pas suffisante ? L'est elle aujourd'hui ? Que manque t il dans les magasins ? aujourd'hui, elle se régule avec le prix justement, mais si tu n'as pas d'argent, comment répartis tu la quantité de biens disponibles si il y a trop de demande ? Est ce qu'aujourd'hui le problème ...
द्वारा eclectron
04/07/20, 20:12
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

et si la quantité n'est pas suffisante ? L'est elle aujourd'hui ? Que manque t il dans les magasins ? d'autre part si on a les mêmes droits quoi qu'on fasse, pourquoi se fatiguer à travailler ? Parce que tu te ferais chier a être inutile. Ce serait une valeur morale que de participer, que d'aider. ...
द्वारा eclectron
04/07/20, 19:35
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

Je sais que ça va faire bolchevique :lol: mais des "droits a" , seraient suffisants. Non, non, ça fait vraiment envie! :lol: Ah bah tiens justement, qu'est ce qui te motiverait a garder l'argent ? A garder la récompense au mérite ? a partir de zéro dans la vie ? N'as tu découvert que cett...
द्वारा eclectron
04/07/20, 17:48
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

Pour moi, tous les aspects spéculatifs, comme la bourse, devraient être interdits et sanctionnés par des lois. Tout le domaine du tertiaire (assurances, banques et finance) devrait être réduit au strict minimum (strict nécessaire). Matière a réflexion: si l'on supprime l'argent, ça libère tout ce p...
द्वारा eclectron
04/07/20, 17:21
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

Lorsque je parle de "tendance inverse", il ne s'agit pas d'une critique, mais d'une constatation... Une agriculture propre et non dépendante du pétrole réclamera plus de main d'oeuvre qu'aujourd'hui... L'industrialisation, notamment de l'agriculture, a joué un rôle multi-factoriel dans la...
द्वारा eclectron
04/07/20, 12:33
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

Un saucissonnage comme tu les affectionnes, c'est l'heure de l’apéro. :lol: Ce que tu as dit, c'est que le travail du secteur industriel diminuerait fortement oui au profit du travail agricole... pas en totalité mais une agriculture propre réclamera certainement plus de main d'oeuvre qu'aujourd'hui....
द्वारा eclectron
04/07/20, 12:13
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

Et bien oui, celui qui emprunte est un perdant qui n’a pas su utiliser le fruit de sa propre épargne... Et ensuite il est perdant potentiel s’il ne rembourse pas! Et perdant parce qu’il s’est mis dans l’engrenage de l’endettement. Ah OK, vu sous cet angle. Fondamentalement, l’epargne est de la dett...
द्वारा eclectron
04/07/20, 12:00
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

Eclectron , comme tu le notes très justement, en inversant les causes, tu inverses également les conséquences (report massif du travail du secteur industriel vers le secteur agricole). Ah je n'ai pas dit cela, j'ai parlé 'transat'* tout de même. * chaise longue Quelle inversion de cause il y a en d...
द्वारा eclectron
04/07/20, 11:53
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

A chacun de voir , voici le livre, j'ai fait un pdf de ses pages facebook: https://a300ddba-3fef-4357-b450-1992cc5 ... 845a26.pdf si quelqu'un sait comment sauvegarder un pdf sur econo, je suis preneur C'est simple, en bas de l'éditeur de message, tu cliques sur "Pièces jointes" puis sur ...
द्वारा eclectron
04/07/20, 08:31
फोरम: मानवीय आपदाओं, प्राकृतिक, जलवायु और औद्योगिक
विषय: व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति
जवाब: 1282
बार देखे गए: 38676

पुन: एक व्यवहार्य भविष्य के लिए मन की स्थिति

il y a forcément "du monde en trop", même avec du durable, réparable et recyclable... Sur quoi te base tu pour dire cela ? En ce qui concerne la nourriture, donc l'agriculture, en France nous pourrions être autonome sans 'fossiles en tout genre'. Ensuite tu conçois et fabrique tout l’équi...

जाओ उन्नत खोज